Home Uttarakhand Dehradun चारधाम यात्राः ऋषिकेश में आसानी से बनेंगे ग्रीन कार्डः दास

चारधाम यात्राः ऋषिकेश में आसानी से बनेंगे ग्रीन कार्डः दास

0
चारधाम यात्राः ऋषिकेश में आसानी से बनेंगे ग्रीन कार्डः दास

चारधाम यात्राः ऋषिकेश में आसानी से बनेंगे ग्रीन कार्डः दास
परिवहन मंत्री ने एसी यात्री प्रतीक्षालय व ग्रीन कार्ड बनाने की प्रक्रिया का किया शुभारंभ


ऋषिकेश।
चारधाम यात्रा पर जाने वाले यात्रियों के लिए खुशखबरी है। एआरटीओ कार्यालय में ग्रीन कार्ड और ट्रिप कार्ड बनवाने के दौरान यात्रियों को अब गर्मी में फजीहत नहीं झेलनी पड़ेगी। एआरटीओ कार्यालय में वातानुकूलित यात्री प्रतिक्षालय का निर्माण पूरा हो चुका है, जिसका लोकार्पण उत्तराखंड के परिवहन मंत्री चंदन राम दास ने किया। इसके अलावा ग्रीन कार्ड बनाए जाने की प्रक्रिया भी आज से शुरू हो गई है, जिसका शुभारंभ भी परिवहन मंत्री ने किया है। सोमवार तीन अप्रैल को वातानुकूलित यात्री प्रतीक्षालय और ग्रीन कार्ड बनाए जाने की प्रक्रिया का शुभारंभ करने के लिए आरटीओ कार्यालय में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर परिवहन मंत्री चंदन रामदास पहुंचे। उन्होंने सबसे पहले यात्रियों की सुविधा के लिए बनाए गए वातानुकूलित यात्री प्रतीक्षालय का लोकार्पण किया, जिसके बाद अपने हाथों से ड्राइवर को पहला ग्रीन कार्ड जारी कर ग्रीन कार्ड बनाए जाने की प्रक्रिया का भी शुभारंभ किया।
मौके पर परिवहन मंत्री चंदन रामदास ने कहा कि चारधाम यात्रा को सुरक्षित और व्यवस्थित तरीके से संपन्न कराने के लिए सरकार कटिबद्ध है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी खुद चारधाम यात्रा की व्यवस्थाओं पर अपनी नजर बनाए हुए हैं। चारधाम यात्रा की तैयारियों में किसी भी प्रकार की कमी न रहे, इसके लिए अधिकारियों को लगातार निर्देश दिए जा रहे हैं। फिलहाल चारधाम यात्रा के प्रवेश द्वार ऋषिकेश में तमाम व्यवस्थाओं को सरकार ने पूरा कर लिया है। ग्रीन कार्ड और ट्रिप कार्ड बनाने की प्रक्रिया का सरलीकरण कर ऑनलाइन किया गया है, जिससे चारधाम यात्रा पर जाने वाले वाहनों के चालकों को असुविधा का सामना ना करना पड़े।

यात्रियों के साथ मधुर व्यवहार करें ड्राइवर-कंडक्टरः रामदास
ऋषिकेश।
परिवहन मंत्री चंदन राम दास ने चारधाम यात्रा पर जाने वाले सभी ड्राइवर और कंडक्टर को यात्रियों के साथ मधुर व्यवहार करने के लिए कहा है। परिवहन मंत्री का कहना है कि हमारे राज्य की बोली भाषा व्यवहार को दूसरे राज्यों में सराहा जाना चाहिए। इसके लिए ड्राइवर और कंडक्टरों को अपनी वाणी में सुधार लाने की जरूरत है। कई बार ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें केवल अपनी वाणी की वजह से ही राज्य की छवि धूमिल हुई है। हमारी मृदु भाषा ही चारधाम यात्रियों और पर्यटकों को उत्तराखंड की ओर आकर्षित करती है। हमारा राज्य तीर्थाटन पर ही रोजगार के लिए निर्भर है।


आरटीओ प्रवर्तन मोहित कोठारी ने बताया कि परिवहन विभाग चारधाम यात्रा की तैयारियां पूरी कर चुका है। बसों की व्यवस्था हो या ऑनलाइन ग्रीन कार्ड व ट्रिप कार्ड को जारी करना हो ये सारी व्यवस्थाएं पूरी की गई हैं। कार्यालय स्तर पर ट्रेनिंग देकर ग्रीन कार्ड और ट्रिप कार्ड बनाने वाले कर्मचारियों की नियुक्ति की गई है। आज से चारधाम यात्रा पर जाने वाले वाहनों के चालक ग्रीन कार्ड बनाने की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here