तीन युवकों पर ताबड़तोड़ फायरिंग, एक की मौत, दो लोग घायल

मौके पर परिजन व स्थानीय लोग।

देहरादून। Rapid firing on three youths रायपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत नेहरू ग्राम में  हुई फायरिंग में एक युवक की मौत हुई है। गोलीबारी में दो युवक घायल हो गए हैं। इस मामले में पुलिस ने तीन युवकों को हिरासत में लिया गया है। मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। घायलों का अस्पताल में उपचार किया जा रहा है। पुलिस इस मामले में हर एंगल से पड़ताल कर रही है।

मिली जानकारी के अनुसार पैसों को लेकर हुए विवाद के चलते देर रात रायपुर क्षेत्रांर्तगत नेहरूग्राम में गोलियंा चलने से जहंा एक व्यक्ति की मौके पर ही मौत हो गयी वहीं दो लोग गम्भीर रूप से घायल हुए है। सूचना मिलने पर पुलिस ने मौके पर पहुंच कर शव को कब्जे में लेने का प्रयास किया लेकिन स्थानीय निवासियों के विरोध के चलते मौके पर हंगामा खड़ा हो गया। जिसके बाद पुलिस के आलाधिकारियों व क्षेत्रीय विधायक काऊ के समझाने पर लोगों ने शव उठाने दिया।

लोगों की मांग है कि आरोपियों को जल्द गिरफ्तार किया जाये। घटना का मास्टर मांइड क्षेत्र में ब्याज का काम करने वाले एक व्यक्ति बताया जा रहा हैै। मामलें में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है जबकि एक को हिरासत में लेकर पूछताछ जारी है। वहीं गोली चलाने वाला आरोपी भी फरार बताया जा रहा है।

वहीं इस  मामले में सूत्रों का कहना है रायपुर क्षेत्र निवासी रवि बडोला ने अपनी कार डोभाल चौक के पास रहने वाले देवेंद्र शर्मा उर्फ भारद्वाज को दी थी। इस कार के रवि बडोला चार लाख रुपए मांग रहा था, लेकिन भारद्वाज ने कार का सौदा साढ़े तीन लाख रुपए में कर दिया। इस बात से नाराज रवि बडोला अपने दो साथियों सुभाष क्षेत्री और मनोज नेगी के साथ अपनी कार लेने के लिए भारद्वाज के घर जाने लगा।

बताया जा रहा है कि इस दौरान किसी ने भारद्वाज को सूचना दे दी कि बडोला उसे मारने के लिए आ रहा है। भारद्वाज ने भी अपने साथियों को बुला लिया। जैसे ही बडोला और उसके साथी वहां पहुंचे तो भारद्वाज ने गोलियां चला दी। इसमें बडोला, क्षेत्री और नेगी तीनों को गोली लग गई। बडोला गोली लगते ही भाग गया और कहीं नाले में गिर गया। जबकि, क्षेत्री और नेगी घायल हो गए। पुलिस ने दोनों को कोरोनेशन अस्पताल में भर्ती कराया है।

देहरादून एसएसपी अजय सिंह के अनुसार गोली चलने की घटना पैसे के लेनदेन को लेकर प्रारंभिक रूप में सामने आई हैै। अभी तक की जांच पड़ताल में पता चला कि घटना में शामिल और घायल लोग एक ही ग्रुप के हैं। सभी लोग सूदकृब्याज का काम करते हैं।

इसी कारण इनमें पैसों के लेनदेन को लेकर विवाद गोली की घटना तक जा पहुँची है। सभी लोग शराब के नशे में एक दूसरे को धमकी देते रहे और इसी बीच गोली चलने की घटना कारित हुई है। घटना में 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया हैं। जबकि तीसरे को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। हालांकि गोली चलाने वाला युवक फरार है। जिसकी तलाश जारी है।

भारद्वाज के घर पर फायरिंग कर एक की हत्या करने वाला रामवीर पूर्व में भी हिस्ट्रीशीटर पंकज व विनय क्षेत्री हत्याकाण्ड में भी शामिल रहा है। जो वर्तमान मेें पैरोल पर जेल से बाहर है। उल्लेखनीय है कि कुछ वर्ष पूर्व अजबपुर निवासी विनय क्षेत्री की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। जिसमें पुलिस ने मृतक की पत्नी के साथ ही रामवीर सहित चार लोगों को नामजद किया गया था। जिसके बाद वह जेल गया था तथा जमानत पर छूटा था।

जिसके बाद उसने यहां पर आना जाना शुरू कर दिया। यहां पर जमीनों की खरीद फरोख्त व विवादित जमीनों पर कब्जा करने के धंधे में लिप्त हो गया था। जिसके चलते इसके द्वारा नेहरू कालोनी क्षेत्र के हिस्ट्रीशीटर पंकज के यहां भी आना जाना था। वहीं किसी बात को लेकर इसकी पंकज से अन्दर खाने रंजिश हो गयी और इसने पंकज को ठिकाने लगाने का मन बना दिया।

इसी दौरान करीब साढे तीन साल पहले रामवीर पंकज को साथ लेकर खतौली की तरफ गया था तथा रास्ते में गाडी के अन्दर ही पंकज की गोली मारकर हत्या कर उसके शव को कार की डिग्गी में रखकर जा रहे थे तभी इनकी कार पंचर हो गयी और वह पंकज की लाश व कार को छोडकर फरार हो गये। जब खतौली पुलिस को लावारिस कार का पता चला तो उन्होंने उसकी तलाशी ली तो कार की डिग्गी से पंकज का शव मिलने से सनसनी फैल गयी और उन्होंने जब शव की शिनाख्त करायी तो पता चला कि मृतक नेहरू कालोनी क्षेत्र का हिस्ट्रीशीटर बदमाश पंकज है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here