बीमारियों से बचाव को मस्जिदों में की जाएगी दुआएं

मौलाना जहूर की खिदमात को भुलाया नहीं जा सकताः कासमी

देहरादून। Prayers will be sought for protection from diseases मौलाना जहूर अहमद कासमी की खिदमात को कभी भुलाया नहीं जा सकता, वह एक आलीम-ए-दीन ही नहीं, मजाहिरूल उलूम में तफसीर के बड़े उस्ताद भी थे, उन्होंने हमेशा जमीयत उलेमा ए हिंद के बैनर तले कौम और मिल्लत की खिदमत का परचम बुलंद किए रखा।

यह बात गुरुवार को मदरसा दार-ए-अरकम आजाद कॉलोनी में मौलाना जहूर अहमद को खिराज-ए-अकिदत पेश करने के लिये आयोजित किये गये इजलास में जमीअत के प्रदेश सचिव मौलाना अब्दुल मन्नान ने कही। उन्होने कहा कि एक आलिम का दुनिया से जाना एक आलम के जाने के बाराबर है, मगर हर किसी को इस दारे फानी से जाना है।

इस मौके पर जमीअत के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य मोहम्मद शाह नज़र ने कहा कि मौलाना जहूर आखरी वक्त तक आमजनमानस की सेवा के लिये कार्य करते रहे। ऐसी कामिल शख्सियत की कमी हमेशा खलेगी। उन्होने कहा कि आप का दुनिया से जाना पूरी मिल्लत के लिये खसारा है। इस मौके पर कुरआन की तिलावत के बाद खिराज-ए-अकिदत पेश कर दुआ की गई।

इस अवसर पर जिला उपाध्यक्ष मास्टर अब्दुल सत्तार, शहर अध्यक्ष मुफ्ती राशिद कासमी, मुफ्ती अयाज अहमद जामई, कारी मोहम्मद अहसान, मौलाना अब्दुल वाजिद, मौलाना शाबान, कारी शाहवेज़, मौलाना अबू बकर, मौलाना सोहेल मलिक, कारी इरफान व मास्टर मोहसिन आदि मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

रक्तदान करने को इमाम करेंगे प्रेरितः जमीअत

उत्तराखण्ड की अस्थाई राजधानी देहरादून में डेंगू का प्रकोप माहमारी का रूप लेता जा रहा है, जिस को लेकर हर कोई चिंतित नज़र आ रहा है। सरकार के स्तर पर बड़े पैमाने पर व्यवस्थाएं की गई है, मगर फिर भी हालात काबू से बाहर होते जा रहें है, जिसको देखते हुए कई समाजिक संगठनों ने भी आगे आकर आपने दायित्व को निभाने की पहल की है।

जमीअत-ए-उलेमा उत्तराखण्ड ने भी अपील जारी की है कि कल (आज) जुमे की नमाज़ के बाद सभी मस्जिदों में डेंगू व दिगर बिमारियों से निजा़त के लिये विषेश दुआएं कराई जाए। साथ ही लोगों को रक्तदान करने के लिये प्रेरित किया जाए। जमीअत के प्रदेश सचिव मौलाना अब्दुल मन्नान ने शहर भर के सभी इमामों से आह्वान किया कि जुमे की नमाज़ के बाद अपने गुनाहों से तोबा करते हुए बिमारियों से निज़ात के लिये विषेश दुआ कराई जाए, ताके इस माहमारी से आम जनमानस को बचाया जा सके।

उन्होने जमीअत के सभी पदाधिकारियों, सदस्यों और समाजिक लोगों से आह्वान किया कि अधिक से अधिक संख्या में रक्तदान करें। उन्होने कहा कि हम मस्जिदों में जा कर भी लोगों को रक्तदान करने के लिये प्रेरित करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here