कांग्रेस को समर्थन के बयान पर यूकेडी में आक्रोश

यूकेडी नेता प्रेस वार्ता करते हुए।

यूकेडी शीर्ष नेतृत्व के मनमाने फैसलों पर यूकेडी का बड़ा धड़ा मुखर

देहरादून। Outrage in UKD over statement of support to Congress उत्तरांचल प्रेस क्लब में प्रेस वार्ता में उत्तराखंड क्रांति दल के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने पार्टी का अधिवेशन 24 जुलाई को देहरादून में किए जाने का ऐलान किया तथा केंद्रीय अध्यक्ष द्वारा कांग्रेस पार्टी को समर्थन दिए जाने के फैसले का पुरजोर खंडन करते हुए कहा कि पार्टी के 80 प्रतिशत से अधिक जिला पदाधिकारी और जिला अध्यक्ष और अन्य केंद्रीय पदाधिकारी सहित तमाम कार्यकर्ता किसी भी सूरत में किसी भी राजनीतिक दल को चुनाव मे कोई समर्थन प्रदान नहीं करेंगे।

उत्तराखंड क्रांति दल के केंद्रीय मीडिया प्रभारी शिवप्रसाद सेमवाल ने कहा कि चुनाव में कांग्रेस को समर्थन देने का सवाल ही नहीं उठता। सेमवाल ने केंद्रीय नेतृत्व पर आरोप लगाया कि कुछ केंद्रीय नेता यूकेडी के इलेक्शन को प्रभावित करने के लिए भाजपा के इशारे पर अधिवेशन को नवंबर लास्ट तक खिसकाना चाहते हैं ताकि यूकेडी के कार्यकर्ता निकाय चुनाव की तैयारी न कर सकें।

यूकेडी के केंद्रीय प्रवक्ता अनुपम खत्री ने कहा कि एक ही कार्यकाल में तीन बार कार्यकारिणी भंग की जा चुकी है तथा तमाम दल विरोधी गतिविधियों में पार्टी के शीर्ष नेता संलग्न है, जिसे आम कार्यकर्ता किसी भी हालत में बर्दाश्त  नहीं करेगा।

यूकेडी के देहरादून जिलाध्यक्ष संजय डोभाल ने कहा कि पार्टी के 80ः से अधिक जिला अध्यक्ष और केंद्रीय पदाधिकारियों का समर्थन उनके साथ है तथा वह किसी भी हालत में यूकेडी को राष्ट्रीय पार्टियों का पिछलग्गू नहीं बनने देंगे। यूकेडी केंद्रीय श्रमिक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष राजेंद्र पंत ने कहा कि वे लगातार पार्टी के तमाम पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से बातचीत कर रहे हैं और आने वाले अधिवेशन में बहुमत से पार्टी पदाधिकारियों का चुनाव कराया जाएगा।

UKD गैर राजनीतिक बेईमान लोगों का जमावड़ा बन चुका है

उत्तराखंड क्रांति दल के केंद्रीय कोषाध्यक्ष टीएस कार्की ने कहा कि आज के समय में यूकेडी गैर राजनीतिक बेईमान लोगों का जमावड़ा बन चुका है। इसमें से भटके हुए निष्ठावान कार्यकर्ताओं को साथ में लेकर पार्टी को सही रास्ते पर लाया जाएगा।

केंद्रीय महिला मोर्चा की अध्यक्ष सुलोचना ईष्टवाल तथा उपाध्यक्ष उत्तरा पंत बहुगुणा ने कहा कि पूरा महिला प्रकोष्ठ एक सुर में अधिवेशन को नियत तिथि पर ही कराए जाने का पक्षधर है और महिला प्रकोष्ठ चुनाव में कांग्रेस को समर्थन देने का भरपूर विरोध करता है। वाणिज्य प्रकोष्ठ के केंद्रीय अध्यक्ष भानु पंत ने कहा कि शीर्ष नेतृत्व एक तरफा मनमाने निर्णय ले रहा है।

कार्यकारिणी को किसी भी निर्णय में विश्वास में नहीं लिया जा रहा है इसलिए कोई भी दल विरोधी निर्णय स्वीकार नहीं किया जाएगा। प्रेस वार्ता में विनोद कोठियाल, शैलेंद्र सिंह गुसाईं, राजेंद्र भट्ट, लोकेंद्र थपलियाल, सरोज रावत, मंजू रावत, सुशीला पटवाल, यशोदा रावत, राजेंद्र गुसाईं, पंकज उनियाल राधेश्याम आदि दर्जनों पदाधिकारी और अन्य कार्यकर्ता शामिल थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here